BIRAC

जैव प्रौद्योगिकी उद्योग भागीदारी कार्यक्रम (BIPP)

 

5 दिसंबर, 2008 को जैव प्रौद्योगिकी उद्योग भागीदारी कार्यक्रम (BIPP) शुरू किया गया। BIPP प्रमुख आर्थिक क्षमता वाले आगामी प्रमुख प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में नवीन शोध के लिए लागत साझा करने के आधार पर सहायता देने और भारतीय उद्योग को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए उद्योगों के साथ सरकारी साझेदारी कार्यक्रम है। इसका उद्देश्य वैज्ञानिकों के सहयोग से, बौद्धिक संपदा का निर्माण करना है जिसका स्वामित्व भारतीय उद्योग द्वारा प्रासंगिक तौर पर बरकरार रखा जाए।

 

BIPP राष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृत प्राथमिकताओं के संदर्भ में, उपयुक्त प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देने के लिए शुरू किया गया है। इसमें सात मुख्य विषयों पर प्रस्ताव आमंत्रित हैं:

क) दवा वितरण सहित दवाएं,

ख) टीके और नैदानिक परीक्षण,

ग) बायोसिमिलर और स्टेम सेल,

घ) उपकरण और निदान,

ङ) कृषि,

च) माध्यमिक कृषि सहित औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी और

छ) जैव सूचना विज्ञान और सुविधाएं जो वस्तुतः जैव प्रौद्योगिकी के हर पहलू को कवर करती हैं।

 

केवल उच्च जोखिम, प्रौद्योगिकियों/प्रक्रियाओं के परिवर्तनकारी विकास हेतु BIPP एक उन्नत प्रौद्योगिकी योजना है। इसे उच्च जोखिम वाली भविष्य की प्रौद्योगिकियों हेतु और मुख्य रूप से व्यवहार्यता अंतराल के फंडिंग के लिए शुरू किया गया है। इस योजना की विशिष्टता यह है कि यह "ब्रेक थ्रू रिसर्च" के लिए है, जो कि उत्पाद और प्रक्रिया के विकास को सक्षम बनाता है और पेटेंट योग्य है, जिसमें उद्योग के पास बौद्धिक संपदा स्वामित्व अधिकार हैं।

 

BIPP की विशेषताएं

 

यह कार्यक्रम विशेष रूप से आगामी प्रौद्योगिकियों में उच्च जोखिम, त्वरित प्रौद्योगिकी विकास हेतु सहायता प्रदान करता है।

यह सुरक्षित बाजार के बिना उच्च जोखिम वाले, राष्ट्रीय और सामाजिक रूप से प्रासंगिक क्षेत्रों को सहायता प्रदान करता है। इससे ट्रांसलेशनल रिसर्च में मदद मिलेगी। इसलिए यह परिकल्पना की गई है कि सार्वजनिक संस्थान बुनियादी अनुसंधान एवं विकास परिणामों को उद्योग द्वारा उत्पाद विकास में बदलने में उपयोगी भागीदार होंगे।

कृषि उत्पादों के लिए छोटे पैमाने पर और बड़े पैमाने पर क्षेत्र परीक्षणों  (चरण I, II, III) और स्वास्थ्य उत्पादों के लिए नैदानिक ​​परीक्षणों  (चरण I, II, III) के लिए समर्थन के माध्यम से उत्पाद मूल्यांकन और सत्यापन प्रदान करता है।

यह बौद्धिक संपदा की नई पीढ़ी हेतु शोध परियोजना के लिए सहायता प्रदान करता है।

 

सहायता हेतु BIPP श्रेणियाँ:

 

नीचे वर्णित के अनुसार BIPP में चार व्यापक श्रेणियां (I, II, III और IV) शामिल हैं:

 

श्रेणी I: उच्च सामाजिक प्रासंगिकता के क्षेत्र, जो कि अनिश्चित बाजार संचालित मांग वाले क्षेत्रों से अलग हैं

 

श्रेणी II: भारत की वैश्विक प्रतिस्पर्धा हेतु प्रासंगिक उच्च जोखिम शोध, खोज और इनोवेशन वाले क्षेत्र

 

श्रेणी III (क): स्थानीय इनोवेशन (नैदानिक परीक्षण) को बढ़ावा देने वाले उच्च राष्ट्रीय महत्व के पहले से मौजूद उत्पादों का मूल्यांकन और सत्यापन वाले क्षेत्र

 

श्रेणी III (ख): स्थानीय इनोवेशन को बढ़ावा देने वाले उच्च राष्ट्रीय महत्व के पहले से मौजूद उत्पादों का मूल्यांकन और सत्यापन (कृषि क्षेत्र परीक्षण) क्षेत्र

 

श्रेणी IV: इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिए साझा लागत प्रमुख सुविधाएं

 

 

BIPP का प्रभाव (31 मार्च, 2020 तक के आंकड़े)

 

समर्थित परियोजनाओं की कुल संख्या: 214

कुल फंड डिस्बर्स: 523.79 करोड़ रु.

कुल उत्पादों / प्रौद्योगिकियों का विकास: 52

BIPP समर्थन से विकसित सुविधाएं: 9

बौद्धिक संपदा उत्पन्न: 31

 

 

प्रस्तावों हेतु आमंत्रण

 

वर्ष में प्रस्तावों हेतु तीन बार आमंत्रण मांगे जाते हैं:

 

15 फरवरी - 31 मार्च

15 जून - 31 जुलाई

15 अक्टूबर - 30 नवंबर

 

1 - BIPP - पूर्ण योजना दस्तावेज़

2 - BIPP - परिचालन तंत्र

3 - BIPP उपयोगकर्ता गाइड

4 - प्रोजेक्ट जमा करने के लिए प्रोफार्मा

 

     श्रेणी I और II

     श्रेणी III-A (स्वास्थ्य देखभाल नैदानिक परीक्षण)

     श्रेणी III-B (ट्रांसजेनिक फील्ड परीक्षण)

     श्रेणी IV

 

5 - फंडिंग हेतु दिशा-निर्देश

 

6 - मूल्यांकन हेतु पैरामीटर

 

     श्रेणी I और II

     श्रेणी III-ए

     श्रेणी III-बी

     श्रेणी IV

 

7 - फंडिंग के लिए कंपनी द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले अन्य दस्तावेज

 

प्रारूप - अनुदान-सहायता पत्र समझौता

प्रारूप - बोर्ड संकल्प

प्रारूप - गैर-ग्रहणाधिकार पत्र

प्रारूप - आंतरिक नवाचार अनुसंधान एवं विकास

प्रारूप - रॉयल्टी समझौता

प्रारूप - प्राधिकार पत्र

  •